shayari love romantic ,english love shayari ,शायरी प्यार रोमांटिक, अंग्रेजी प्यार शायरी

 Shayari love romantic ,english love shayari 


,शायरी प्यार रोमांटिक, अंग्रेजी प्यार शायरी


shayari love romantic ,english love shayari ,शायरी प्यार रोमांटिक, अंग्रेजी प्यार शायरी



Hakikat Jaan Kar Aisi hamaqat Kaun Karta Hai 


Bewafa Logon Se Mohabbat Kaun Karta Hai 

batao jiss tijaraat Mein hi khasra ho


 Bina soche khasare ki Tijarat Kaun Karta Hai 


Hamen hi galatfahmi Thi kisi ke waaste Varna



 Jamane ke rajyon se Bhagawat Kaun Karta Hai 




aa Ji Bhar Ke Tadpa Shikayat Kaun karta hai 



Kisi Ke Dil Ke jakhmon per Marham Rakhna jaruri hai 



Magar is Daur Mein Hum Dum ya zehmat Kaun karta hai





Mohabbat Kar Nahi Sakte adawat kya karoge Tum 



Hamari Bewafai ki Shikayat kya karoge tum 



mere Ashkon Ne Sencha Tha Tumhare Dil ke Sabzy ko



Usy thukra diya tumne sakhawat kya karoge Tum 



Tumhen to chahie Unchi Haveli Reshmi kapde Mein



 Ek majdur hun vaise Mohabbat Kya Karoge Tum 



Hakikat to yah hai ki ek Bimar e Mohabbat Se 



Nigahen FIR lete ho Yaad kya karoge Tum 



Tumhara tha Tumhara hun Tumhara Hi rahunga Main 



Na hogi meri Yaadon Se Faraghat kya karoge Tum



Muqadar Mera Chamkega kisi din dekhna Shani 


Sabhi kuch Kho Diya Tumne Inayat kya karoge tum….




Besabb  bolate Rahane ki Aadat Ho Gayi 



Har Kisi Shakhs ko FIR Tumse Shikayat Ho Gayi 



Rubaru Aaina Rakh kar ke Kabhi Socho to tum 



mein kya hai ki use Tumse Mohabbat Ho Gayi 



apni Aankhon Ke in Ashkon ko bacha kar Rakhna 




Kahate Kahate Yuhi Khamosh Mein Ho Jaunga 



Bezubani Ki Mere Har Jagah shararat Hogi 



Kisi Ne Socha Tha ki Ham Chand Ko Bhi Chhu Lenge aur



 Insan ke Tukdon ki Tijarat Hogi 



mangne Wale Ko Khali Na Kabhi LautAana 



kal Tujhe bhi to kisi ki jarurat Hogi 



Tujhse Shani Jo Kahy Dil To wahi karta Ja 



Tere Shayaroun  Ki Har EK Dil py hukmirani ho ge



Tumhara naam likh likh kar 


mitana Bhul jata hun 


Tumhen Jab Yad karta hun 


Bhula Na Bhul jata hun 


Bahut Si Aisi baatein Hain 


Jo Mere Dil Mein rahti Hain 


Magar Jab Tumse Milta hun 


sunana Bhul Jata Hun 


Main Har Sham Kahta Hun Ki 


Tum Ko Bhul Jaunga 


Magar Jab Subah Hoti Hai 


BhulaNa Bhul jata hun



Aaj uski Yad Mujh Mein Rahane do 


ishq o Mohabbat Ke Dard ko sehne do Sawal Na Karo Is Dil ye Bekarar se 


Kuch To Is Dil Mein Rehne do 


Tum khush raho Kar Ke jhuthi Mohabbat Mujhes 


Mujhe Apne Hi halat mein kharab Rehne do 


ishq Wafa dharan Ke Liye Acha lagta hai 



mujhe mere adhure Khwab Mein Rahane do 


Unki Har Kahi Baat Aj Yaad Ho Lene Do 



Unki Har Kasam o wado Ko Dil Mein Rahane do 


uske Sare Bahane Bazi Ko Bhul Ja Shani Fir se ja Ishq Kar Dil Ko Khushgawaar Rahane do





Wohi pher Mujhe Yaad Aane Lage Hain jinhe bhulane Mein Zamane Lage Hain 



nahi paas aur Yaad Aane Lage Hain 


Mohabbat k Hosh ab thikane Lage Hain 



suna hai hume Woh Bhulane Lage Hain 


To Kya Hum unhe Yaad Aane Lage Hain




 Hataye The Jo rah se Doston Ke 


Pathar Mere Ghar Mein Aane Lage Hain 



yah Kehna tha Unse Mohabbat Hai Mujhko 


yeh Kehne Mein Mujhko Zamane Lage Hain



 hawayein Chale aur Mojein Na Uthe


 ab Aise Bhi Toofan Aane Lage Hain 



Kayamat Yaqeenan Kareeb a gai hai


 ab to Wo  Masjid Mein Jaane Lage Hain




हकीकत जान कर ऐसी हमक़त कौन करता है


हाई



बेवफा लोगों से मोहब्बत कौन करता है



बताओ जिस तिजारत में ही खसरा हो



 बिना सोचे खासे की तिजारत कौन करता है



हमन ही गलतफहमी थी किसी के वास्ते वर्ण



 जमाने के राज्यों से भागवत कौन करता है




आ जी भर के तड़पा शिकायत कौन करता है



किसी के दिल के जाखमों पर मरहम रखना जरुरी है



मगर है दौर में हम दम या जहमत कौन करता है





मोहब्बत कर नहीं सक्ते अदावत क्या करोगे तुम



हमारी बेवफाई की शिकायत क्या करोगे तुम



मेरे अश्कों ने स्नेहा था तुम्हारे दिल के सब्ज़ी को



उस्य ठुकरा दिया तुमने सखावत क्या करोगे तुम



तुम्हें चाहिए तो ऊंची हवेली रेशमी कपड़े में



 एक मजबूर हूं वैसा मोहब्बत क्या करोगे तुम



हकीकत तो यह है की एक बीमारी ए मोहब्बत से



निगाहें प्राथमिकी लेटे हो याद क्या करोगे तुम



तुम्हारा था तुम्हारा हूं तुम्हारा ही रहूंगा मैं



ना होगी मेरी यादों से फराघाट क्या करोगे तुम



मुक़द्दर मेरा चमकेगा किसी दिन देखना शनि


सबी कुछ खो दिया तुमने इनायत क्या करोगे तुम….




बस बोले रहाणे की आदत हो गई



हर किसी शाखाओं को प्राथमिकी तुमसे शिकायत हो गई



रूबरू आईना रख कर के कभी सोचो तो तुम



में क्या है की इस्तेमाल तुमसे मोहब्बत हो गई



आशकों को बचा कर रखना में अपनी आँखों के




कहते कहते हैं यूही खामोश में हो जाउंगा



बेजुबनी की मेरे हर जग शररत होगी



किसी ने सोचा था की हम चांद को भी छू लेंगे और



 इंसानों के टुकड़े की तिजारत होगी



मांगे वाले को खली ना कभी लौटना



कल तुझे भी तो किसी की जरूरत होगी



तुझसे शनि जो कही दिल तो वही करता जा



तेरे शायरों की हर एक दिल पाई हुकमीरानी हो गे



तुम्हारा नाम लिख लिखो


मिटाना भुल जटा हुं


तुमेन जब याद करता हूं


भूला ना भूल जटा हुं


बहुत सी ऐसी बातें हैं


जो मेरे दिल में रहती है


मगर जब तुमसे मिला हुआ


सुनाना भुल जटा हुणे


मैं हर शाम कहता हूं कि


तुम को भूल जाउंगा


मगर जब सुबा होती है


भुलाना भूल जटा हुं



आज उसकी याद मुझ में रहाणे दो


इश्क़ ओ मोहब्बत के दर्द को सहने दो सावल ना करो इस दिल ये बेकरार से


कुछ तो इस दिल में रहने दो


तुम खुश रहो कर के झूटी मोहब्बत मुझे


मुझे अपने ही हलत में खराब रहने दो


इश्क़ वफ़ा धरन के लिए अच्छा लगता है



मुझे मेरे आधे ख्वाब में रहाणे दो


उनकी हर कहीं बात आज याद हो लेने दो



उनकी हर कसम ओ वडो को दिल में रहाणे दो


उसके सारे बहाने बाजी को भूल जा शनि फिर से इश्क कर दिल को खुशगवार रहाणे दो





वही फेर मुझे याद आने लगे हैं जिन्हे भूलने में जमाने लगे हैं



नहीं पास और याद आने लगे हैं


मोहब्बत के होश अब ठिकाने लगे हैं



सुना है हमें वो भुलाने लगे हैं


तो क्या हम उन्हे याद आने लगे हैं




 हटा द जो रह से दोस्त के


पत्थर मेरे घर में आने लगे हैं



यह कहना था उनसे मोहब्बत है मुझे


ये कहने में मुझे जमने लगे हैं



 हवाएं चले और Mojein Na Uthe


 अब ऐसे भी तूफान आने लगे हैं



कयामत याकीनन करीब ए गई है


 अब तो वो मस्जिद में जाने लगे हैं